Sun. Jul 14th, 2024

यदि आप शेयर मार्केट म्युचुअल फंड फिक्स्ड डिपॉजिट रिकरिंग डिपॉजिट के अलावा कोई और दूसरा इन्वेस्टमेंट ऑप्शन ढूंढ रहे हैं तो आपके लिए आज हम जानकारी लेकर आए हैं ग्रिप इन्वेस्टमेंट की।

ग्रीप एक नॉन मार्केट इन्वेस्टमेंट अपॉर्चुनिटी है जहां पर आप पैसिव इनकम कर सकते हैं इसके अलावा मंथली फिक्स रिटर्न भी कमा सकते हैं ।
गरीब की वेबसाइट के अनुसार ग्रिप के पास चार प्रकार के इन्वेस्टमेंट ऑप्शन है
१- सेक्युरिटीज़ेड डेब्ट इंस्ट्रूमेंट(SDI) –

SDI के अंतर्गत परिसंपत्तियों ऋण, पटटा समझौता , चालान आदि आते हैं। ग्रिप इन्वेस्ट बॉन्डएक्स, लीज़एक्स, लोनएक्स और इनवॉइसएक्स जैसे विभिन्न प्रकार के एस डी आई प्रदान करता है ।SDI मैं आप 9-36 महीने के लिए इन्वेस्ट करते है । और आपको इंटरेस्ट मंथली पेआउट के रूप मैं मिलता है ।इसमे इन्वेस्ट करने का ऑप्शन ग्रिप की वेबसाइट पर अवेलेबल है। और अलग-अलग तरह की SDI में इन्वेस्ट करने का ऑप्शन अवेलेबल रहता है ।किसी एक SDI में यदि आप इन्वेस्ट करना चाहते हैं तो आप उसकी पूरी जानकारी ग्रिप की वेबसाइट से ले सकते हैं ।तथा मिलने वाले ब्याज का कैलकुलेशन भी कर सकते हैं और यह इन्वेस्टमेंट के लिए तभी तक अवेलेबल रहती है जब तक मैं इसके लिए आवश्यक राशि पूरी तरह से भरना जाए।अर्थात एस डी आई के लिए आवश्यक राशि पूरी हो जाने के बाद आप उसे उसमे इन्वेस्ट नहीं कर सकते ।
२-कॉर्पोरेट बांड्स
कॉरपोरेट बॉन्ड में हम बॉन्ड जारी करने वाली कंपनी को ऋण देते हैं तथा कंपनी उसके बदले में हमें ब्याज देती है तथा बंद पूरा होने के बाद मूलधन का भुगतान भी कर देती है ।ग्रिप पर 3 महीने से लेकर 24 महीने तक के बांड उपलब्ध हैं ।जिन पर ब्याज मंथली पेआउट के रूप में मिलता है ।कंपनी की वेबसाइट पर जाकर जिस बांड में हम निवेश करना चाहते हैं उसे बांड पर मिलने वाले ब्याज का कैलकुलेशन हम कर सकते हैं
३-स्टार्ट अप इक्विटी

स्टार्टअप इक्विटी में आप किसी स्टार्टअप के लिए पैसा देते हैं इसमें कोई टाइम पीरियड या टेन्योर नहीं होता है क्योंकि आप कंपनी के शेयर होल्डर बन जाते हैं आप कंपनी के शेयर तभी बेच सकते हैं जब कोई बाय बैक करेगा अथवा या इस स्टार्टअप को कोई दूसरी कंपनी एक्वायर करती है । अथवा यह कंपनी मान लीजिए शेयर मार्केट में लिस्ट हो जाती है तो आप इस कंपनी के शेरहोल्डर तो पहले से ही हो तब ऐसी स्थिति में आप अपने शेयर्स को बेचकर मुनाफा कमा सकते हैं और आपका प्रॉफिट और नुकसान कंपनी के ग्रंथ पर निर्भर करता है ।इस केस में क्योंकि आप शेरहोल्डर्स होते हैं तो आप अपना पैसा तभी निकल सकते हैं जब कोई शेयर्स आपके बाय बैक करें या फिर आपके शेयर्स स्टॉक मार्केट में लिस्ट किए जा रहे हैं या फिर आपका जो स्टार्टअप है वह किसी और कंपनी के द्वारा एक्वायर किया जा रहा है तभी आप अपने शेयर्स भेज सकते हैं नॉर्मली स्टार्टअप इक्विटी में लॉजिक यह होता है कि आप एक शेयर को बहुत ही सस्ते और एक इनिशियल स्टेज में खरीद के सालों साल रखते हैं जब उसकी वैल्यू 10 एक 20 एक से भी ज्यादा हो जाती है तो आप काफी प्रॉफिट मई होते है ।
४-कमर्शियल प्रॉपर्टी –

यदि आप आपके लिए किसी प्रॉपर्टी में इन्वेस्ट करना चाहते हैं तो आपको करोड़ों रुपयों की आवश्यकता होती है और आपके पास इतना सारा पैसा तो होता नहीं है इसलिए ग्रिप के द्वारा आप किसी प्रॉपर्टी की इन्वेस्टमेंट की यूनिट खरीद सकते हैं ।और इसमें इन्वेस्ट करने का टेन्योर 60 माह का होता है ।और आपको क्वार्टरली बेसिस पर इंटरेस्ट मिलता है ।

ग्रिप मै रजिस्टर कैसे करें

फाइनली बात करेंगे डॉक्यूमेंटेशन एंड एग्रीमेंट की तो फ्रेंड्स गृप में केवाईसी मैंडेटरी है। आपको ग्रीप की ऑफिसियल वेबसाइट पर विजिट करना होगा तथा sign up में जाकर केवाईसी करना पड़ेगा जिसमें आपको आधार कार्ड , पैन और अकाउंट डिटेल्स अपलोड करनी पड़ेगी। साथ ही आप जब ग्रुप में किसी एसिड में पैसे इन्वेस्ट करते हैं तब आपको इ साइन करना पड़ता है ।एग्रीमेंट पार्टनरशिप और रिस्क डिस्क्लोजर को एक्सेप्ट करना होता है ।

NOTE- GRIP का अभी तक कोई मोबाइल एप्लीकेशन उपलब्ध नहीं है ।


रिस्क एंड रिटर्न –

तो दोस्तों यह तो आप जानते है कि ग्रिप इन्वेस्टमेंट कोई भी मार्केट रिस्क जैसे कि क्रिप्टो मार्केट या स्टॉक मार्केट पर डिपेंड नहीं करता तो उसे तरीके का कोई रिस्क नहीं है

ग्रिप कंपनी का दावा है कि SDI तथा BOND में निवेश करने पर FD से भी ज्यादा 2 गुना यानी की 12 से 15% का रिटर्न मिलता है ।और यह क्वार्टरली या मंथली अकाउंट मै क्रेडिट होता है ।

लेकिन ग्रिप इन्वेस्टमेंट में हम स्टार्टअप में इन्वेस्ट करते हैं तो स्टार्टअप एक स्मॉल कंपनी होती है नई कंपनी होती है तो किसी भी रीजन के वजह से ऐसा हो सकता है कि स्टार्टअप ना चले। लेकिन ग्रिप अब तक 870 करोड़ का इन्वेस्टमेंट इनेबल कर चुका है जिसमें उनका डिफॉल्ट 0.3% है।

डिस्क्लेमर –

इस आर्टिकल में दी गई जानकारी पूरी तरह से ग्रीप की वेबसाइट से ली गई है ।इन्वेस्टमेंट के लिए उपलब्ध प्रोडक्ट भी समय-समय पर बदलते रहते हैं ।इसके अलावा ग्रिप का डिफॉल्ट रेट भी समय आने पर काम या ज्यादा होगा ।

हमारा मकसद यह नहीं है की आप GRIP के प्लेटफार्म पर जाकर इन्वेस्ट करे । हम चाहते है की आपको एक ऐसे इन्वेस्टमेंट की जानकारी हो जो न तो शेयर मार्किट से सम्बन्ध रखता हो और न ही FD,RD, की तरह बहुत ही कम RETURN देता हो। आप अपने वित्तीय सलाहकार से जानकारी लेकर इसमें इन्वेस्ट कर सकते है ।

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *