Sun. Jul 14th, 2024

 

दोस्तो आज  बात करते हैं एक ऐसी कंपनी की जो अभी-अभी लिस्ट हुई है कंपनी का नाम है जिओ फाइनेंसियल  सर्विसेज लिमिटेड यानी कि JFSL।अगस्त 2023 को लिस्ट हुई इस कंपनी की लिस्टिंग इसके फिक्स्ड प्राइस ₹261 के आसपास ही हुई है कंपनी का मार्केट कैप 1. 60 लाख करोड़ रुपए निकलकर सामने आया है इस प्रकार इस कंपनी का मार्केट कैप निफ़्टी की 18 कंपनियों से ज्यादा है और देश की३० वीं  सबसे बड़ी कंपनी हो गई है ।यहां पर यह जानना जरूरी है कि यह कंपनी एनबीसीसी सेक्टर की कंपनी है और मार्केट कैप के हिसाब से यह कंपनी अब बजाज फाइनेंस के बाद देश की दूसरी सबसे बड़ी एनबीसीसी कंपनी बन गई है ।

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि रिलायंस इंडस्ट्रीज ने 1:1के अनुपात में जिओ  फाइनेंसियल का शेयर बाटा  था ।

अब यह सवाल उठता है कि इसमें लोअर सर्किट क्यों लग रहा है 

और आगे चलकर शेयर की चाल क्या रहने वाली है क्योंकि जो म्यूचल फंड कंपनियां हैं जो निफ्टी और सेंसेक्स को पूरी तरह से ट्रक करती हैं  उनके पास रिलायंस इंडस्ट्रीज के शेयर रहे होंगे और लिस्टिंग के बाद उन्हें जियो फाइनेंस सर्विसेज के शेयर भी मिल गए होंगे  और ऐसी कंपनियां अब जियो फाइनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड के शेयर को पूरी तरह से बेच रहे है इसके अलावा 24/08/2023तक निफ्टी और सेंसेक्स का हिस्सा रहेगी उसके बाद यह कंपनी निफ्टी और सेंसेक्स से बाहर हो जाएगी ऐसे म्यूचल फंड जो निफ्टी और सेंसेक्स को ट्रैक करते हैं उन्हें मजबूरी से जियो फाइनेंसियल के शेयर बेचने पड़ेंगे निफ्टी से बाहर जाने के कारण करीब 90 मिलियन शेयर्स की  बिकवाली होगी और सेंसेक्स से बाहर जाने के कारण करीब 55 मिलियन शेयर की बिकवाली होगी इसके अलावा रिलायंस इंडस्ट्रीज का GDR लंदन में लिस्टेड है वहां वहां भी जीटीआर होल्डर्स को JFSL  के शेयर मिले होंगे एक अनुमान के मुताबिक यह शेयर 17 करोड़ है यदि वह लोग शेयर को बेचते  हैं तो करीब 17 करोड़ शेरों की और बिकवाली हो जाएगी इसके अलावा लिस्टिंग से 10 दिन के अंदर तक इसमें केवल T+2 सेगमेंट में ट्रेडिंग होगी यानी कि इंट्राडे ट्रेडिंग नहीं होगी इस वजह से इस शेयर में  बार बार  सर्किट लग रहा है इसके अलावा डी मर्जर के समय शेयर की वैल्यू को १६० से  180 के करीब लगाया जा रहा था लेकिन जब यह शेयर लिस्ट हुआ तो तो इसकी प्राइस 261 थी   एक सेक्शन का यह मानना है कि यह शेयर लोअर सर्किट लगते लगते 160 से 180 के करीब जा सकता है इसलिए शेयर्स के प्लान को लेकर 28 अगस्त की मीटिंग में काफी  क्लियर होगा 

लिस्टिंग के बाद शार्ट टाइम मैं स्टॉक की चाल कैसे जा सकती है?

शार्ट टर्म मैं  निवेशकों को इस शेयर पर वेट एंड वॉच की पॉलिसी से काम करना चाहिए 

लिस्टिंग के पहले ही दिन शेयर 5 परसेंट की गिरावट के साथ बंद हुआ यानी कि इसका शेयर का भाव ₹248 के आसपास आ गया । हम सभी जानते हैं कि यह कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज से टूटकर बनी है और रिलायंस इंडस्ट्रीज ने 1:1 के अनुपात में JFSL का शेयर बांटा था ।इस प्रकार भारतीय इंडेक्स फंड तथा  एक्सचेंज ट्रेडेड फंड के पास रिलायंस इंडस्ट्रीज के करीब २ लाख करोड़ रूपये  के शेयर हैं ।इंटेक्स तथा म्यूचल फंड कंपनी के बेटे के हिसाब से ही शेयर अपने पास रखते हैं जिओ फाइनेंसियल का इंडेक्स  में जितना VATAGE  होगा उसके अतिरिक्त बाकी शेयर इन लोगों को बेचने पड़ेंगे ।इसलिए इन संस्थाओं ने अपने शेयर मार्केट में बेचने शुरू कर दिए जिसकी वजह से इस शेयर में आज पांच परसेंट का लोअर  सर्किट लिस्टिंग के पहले दिन ही लग गया ।

भले ही कंपनी मार्केट के हिसाब से दूसरी सबसे बड़ी एनबीसीसी हो लेकिन हमें यह जानना जरूरी है कि इस कंपनी के पास रिलायंस इंडस्ट्रीज की 6 परसेंट के आसपास की हिस्सेदारी है जो इस कंपनी के मार्केट कैप को बेहतर बनाती है ।कुछ खबरों के अनुसार मार्केट में इस शेयर की फैरवैल्यू 180 से लेकर ₹150 तक अंदाज लगाया जा रहा है इसलिए इस यार पर आने वाले समय में दबाव रहने की काफी संभावना है ।इसलिए शार्ट टाइम के लिए इसमें निवेश करने के लिए थोड़ा सावधानी बरतने की आवश्यकता है ।

लॉन्ग टर्म के लिए निवेशकों को क्या रणनीति अपनानी चाहिए ?

कंपनी ने अभी वर्तमान समय में कहा है कि वह ब्लैक रॉक कंपनी के साथ पार्टनरशिप कर करने जा रही है इस प्रकार जियो ब्लॉक रॉक भारत में इन्वेस्टमेंट  सर्विसेज  प्रोवाइड करेगी ।जिओ मैनेजमेंट का टारगेट इस कंपनी को बजाज फाइनेंस जैसी एनबीसीसी बनाए रखने का होगा लेकिन इस काम में के लिए उसे काफी वक्त लगेगा इसलिए बहुत लंबे समय के लिए इस शेयर को अपने पोर्टफोलियो का हिस्सा बनाया जा सकता है ।उम्मीद है कि अगले बोर्ड मीटिंग में कंपनी इस बारे में आगे के विजन को क्लियर करेगी ।

दोस्तों यह अभी-अभी लिस्टेड कंपनी है ज्यादा जानकारी इस कंपनी के बारे में सामने नहीं आई है। इसलिए इस कंपनी का टेक्निकल और फंडामेंटल विश्लेषण करना अभी फिलहाल मुश्किल है ।

डिस्क्लेमर –

इस आर्टिकल में हमने JFSL के उन सभी पॉइंट्स को पाठकों के सामने रखा है जो अभी तक की जानकारियां हमारे सामने आई है किसी भी शेयर  में खरीदने की हमारी कोई राय नहीं है पाठकों के चाहिए कि वह अपने वित्तीय सलाहकार से पूछ कर ही किसी शेयर में इन्वेस्टमेंट कर सकते हैं आर्टिकल एजुकेशनल purpose से  लिखा गया है ।

 

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *