Sun. Jul 14th, 2024

आज के आर्टिकल में आपको शेयर मार्किट में ट्रेडिंग या इन्वेस्ट करने के लिए आवश्यक टिप्स की जानकारी दी जाएगी । यह जानकारी शेयर मार्किट मै जो लोग नए है , उन लोगो के लिए महत्वपूर्ण हो सकती है ।आज के आर्टिकल की जानकारी उन लोगों के लिए महत्वपूर्ण है जो लोग शेयर मार्केट में नए होते हैं और बहुत सारा पैसा इस मार्केट में बनाना चाहते हैं लेकिन उन लोगों को इस आर्टिकल में कुछ टिप्स मिलेगी ताकि वह शेयर मार्केट में निवेश करने से पहले सावधान हो सकें और इसकी सच्चाई को जानने का प्रयास करें ।क्योंकि दूर के ढोल सुहावने होते हैं और शेयर मार्केट में पैसा बनाना इतना आसान भी नहीं होता है जितना कि लोग समझते हैं ।अपने आप में शेयर मार्केट का क्षेत्र बहुत बड़ा है इसका बहुत ज्यादा विस्तार है और जो लोग इस क्षेत्र में निवेश या ट्रेड करना चाहते हैं उन्हें दिन प्रतिदिन कुछ ना कुछ नया सीखने को मिलता ही रहता है शेयर मार्केट में निवेश करने वाले लोगों को मार्केट दिन प्रतिदिन कुछ ना कुछ नया सीखता रहता है इसलिए आज के आर्टिकल में हम उन पॉइंट्स की चर्चा करेंगे जो शेयर मार्केट में निवेश करने वाले नए लोगों के लिए महत्वपूर्ण है

सीखना तथा समझने का प्रयास करना

सबसे पहले हमें शेयर मार्केट में निवेश करने के लिए डिमैट अकाउंट खोलना चाहिए ताकि हम सीखने तथा समझने के साथ छोटी-छोटी मात्रा में स्टॉक को बाय या सेल कर सकें ।हम स्टॉक को बाय या सेल करने की जानकारी या उसे मोबाइल एप्लीकेशन को चलाने की जानकारी अपने ब्रोकर से ले सकते हैं जिस ब्रोकर के पास हमारा डिमैट अकाउंट है ।
शेयर मार्केट में जानकारी लेने के लिए या जिन कंपनियों में हम निवेश करना चाहते हैं उनके बारे में अधिक से अधिक जानकारी हमें होनी चाहिए इसके लिए कई वेबसाइट से हमारी जानकारी बढ़ाने में मदद करती हैं जैसे मनी कंट्रोल, इकोनामिक टाइम्स ,आदि ।इसके अलावा कई तरह के न्यूज़ चैनल भी हमें रोजमर्रा की जानकारी देते हैं जो की कंपनियों और उनके स्टॉक से संबंधित होती है जैसे सीएनबीसी आवाज, जी बिजनेस ।

लंबी अवधि के लिए निवेश पर फोकस

यदि आप शेयर मार्केट में नए हैं तो आपको एकदम से इंट्राडे या F&O की ट्रेडिंग नहीं करनी चाहिए ।क्योंकि इंट्राडे और F&O सेगमेंट में हमें ज्यादा पैसा दिखाई देता है परंतु हमें यह समझना चाहिए कि इसमें रिस्क भी उतना ही ज्यादा होता है रिस्क मैनेजमेंट को समझे बिना इन दो सेगमेंट में ट्रेड करना बेवकूफी है इसके लिए आपको लंबी अवधि से के लिए निवेदिता रहने की तैयारी करनी चाहिए ।अथवा आपको पोजीशनल ट्रेडिंग करनी चाहिए जो की कैश सेगमेंट में बाइंग होती है ।धीरे-धीरे आप शेयर मार्केट में बहुत कुछ सीखने की स्थिति में होते हैं और आपको इस बात का पता चल जाता है कि आपको अब आगे क्या सीखना है उसके बाद ही आप इंट्राडे अथवा ऑप्शन ट्रेडिंग में जा सकते हैं ।

अनभिज्ञ कंपनियों में निवेश से बचाना –

शुरुआत में आपको ऐसी कंपनियों में ही निवेश करना चाहिए जिनके बारे में आप भली-भांति जानते हैं ऐसी कंपनियों में निवेश नहीं करना चाहिए जिनके बारे में हमें बहुत ज्यादा पता नहीं होता है अगर उसे कंपनी के फंडामेंटल अच्छे हैं और आपको लगता है कि वह कंपनी आगे जाकर बढ़िया ग्रोथ दिखाएगी तो तभी आपको उसमें निवेश करना चाहिए ।उदाहरण के लिए आने वाले समय में सोलर एनर्जी और सेमीकंडक्टर का अच्छा बिजनेस दिखाई दे रहा है इसलिए हमें इस सेक्टर से संबंधित कंपनियों में निवेश करना चाहिए बाकी निवेश करने से पहले इन कंपनियों के बारे में अच्छी तरह से जानकारी ले लेनी चाहिए ।

अच्छी कंपनी का चयन

अच्छी कंपनी के चयन करने के लिए कंपनी के फंडामेंटल विश्लेषण आवश्यक कर लेना चाहिए ।कंपनी के आने वाला भविष्य बहुत अच्छा होना चाहिए ।तथा कंपनी की भविष्य की संभावित ग्रोथ अच्छी होनी चाहिए ।कंपनी कर्ज मुक्ति होनी चाहिए । फंडामेंटल विश्लेषण के लिए कंपनी का EPS,PE ratio ,ROE आदि की जानकारी होनी चाहिए ।

अपने रिस्क को समझना

किसी भी शहर में निवेश करने से पहले आपको उसे शहर में अपने रिस्क को समझना होगा ।मान लीजिए आप किसी शेयर को अपने हजार रुपए का खरीदा है ।और उसे शेयर को खरीदने में आप ₹300 से अधिक की रिस्क नहीं ले सकते हैं ।और वह शेयर गिरकर ₹700 पर आ जाता है यदि आपको लगता है कि वह शेर अब कभी भी ऊपर नहीं आएगा तो आप ₹700 पर स्टॉप लॉस आर्डर लगा सकते हैं ।इस तरह आपको अपने रिस्क के अनुसार ही शेयर से लॉस होने की स्थिति में बाहर निकलना है ।इसके विपरीत यदि आपको लगता है कि भविष्य में यह कंपनी का शेयर बहुत आगे चल जाएगा तो आप उसे शेयर का प्राइस नीचे आने पर और अधिक मात्रा में शेयर खरीदते हुए उसमें औसत बाइंग कास्ट कम कर सकते हैं ।

रिसर्च प्लानिंग तथा अपडेट

-कंपनी के शेयर खरीदने के लिए आपको उसे कंपनी की सभी तरह की जानकारियां होनी चाहिए ।विश्व तथा भारत में होने वाले राजनीतिक तथा आर्थिक घटनाक्रम का उसे शेयर पर क्या फर्क पड़ेगा आपको इस बात की जानकारी होनी चाहिए ।साथ ही टेक्निकल तथा फंडामेंटल विश्लेषण करना आना चाहिए ।
उदाहरण के लिए हम ऑयल मार्केटिंग कंपनियां जैसे बीपीसीएल ,आइओसी तथा एचपीसीएल की बात करते हैं ।यह कंपनियां फंडामेंटल रूप से काफी मजबूत होती हैं लेकिन सभी कंपनियों की तरह भी इनका टेक्निकल चार्ट के हिसाब से खरीदारी या बिकवाली की राय समय-समय पर बदल सकती है ।लेकिन भारत में या विश्व में होने वाले घटनाक्रम इन कंपनियों के प्रदर्शन पर असर डालते हैं उदाहरण के लिए संसार के किसी भाग में यदि युद्ध की जैसी स्थिति होती है तो इन कंपनियों के मार्जिन पर असर पड़ता है उदाहरण के लिए अमेरिका तथा सऊदी अरब के देशों के बीच तनाव बढ़ने पर कच्चे तेल की कीमतों में वृद्धि हो जाती है ।और इन कंपनियों की इनपुट कॉस्ट बढ़ जाती है जिसकी वजह से इन शेयर्स के मार्जिन पर असर पड़ता है ।इसके अलावा कई बार देश में होने वाले लोकसभा या विधानसभा के चुनाव की स्थिति में भी इन शेयर्स के प्रदर्शन पर असर पड़ता है,क्योंकि इन्हें कई बार प्राइस कट करना पड़ता है ।ऐसी स्थिति में भी उनके मार्जिन पर असर पड़ता है जिसका असर शेयर के भाव पर साफ दिखता है ।
इसलिए एक अच्छे इन्वेस्टर को शेयर मार्केट से संबंधित होने वाले घटनाक्रमों के बारे में हमेशा अपडेट रहने की आवश्यकता है ।उसे बिज़नस न्यूज़ चैनल ,अथवा बिज़नस न्यूज़ पेपर से नियमित जानकारी लेने आवश्यक है ।

डाइवर्सिफाइड पोर्टपोलिओ

आपको अपने पोर्टफोलियो में विविधता लानी है अर्थात एक ही कंपनी में सारा पैसा इन्वेस्ट नहीं करना है अलग-अलग सेक्टर की अलग-अलग कंपनियों में पैसा इन्वेस्ट करना चाहिए क्योंकि कभी कोई कंपनी अच्छा प्रदर्शन करती है कोई दूसरी कंपनी अच्छा प्रदर्शन करती है ।

निवेश की राशि का चयन

आपको अपनी कमाई के हिसाब से सारा पैसा शेयर मार्केट में इन्वेस्ट नहीं करना है आपको अपनी रोजमर्रा के खर्चों और दूसरी सेविंग पर भी फोकस करना है इन सब के अलावा आपके पास जो अतिरिक्त पैसे बचते हैं उन्हीं को शेयर मार्केट में इन्वेस्ट करना चाहिए ।नहीं तो कभी-कभार ऐसी स्थिति आ जाती है की आपको दूसरे खर्चों के लिए पैसे चाहिए होते हैं और उसे समय आपका शेयर मार्केट का इन्वेस्टमेंट भी लॉस में रहता है और हो सकता है कि आपको फिर दूसरे खर्चे पूरे करने के लिए इन शेयर्स से नुकसान की स्थिति में ही बाहर निकलना पड़ जाए।

स्वयं पर अनुशासन

स्वयं पर अनुशासन रखना बहुत आवश्यक है ।कई बार नुकसान होने की स्थिति में हम लोग भयभीत हो जाते हैं और जल्दी से उसे शहर से हम निकल जाते हैं और हो सकता है कि उसके बाद वहां से बहुत आगे निकल जाए ।और कई बार हम उसे शेयर में प्रॉफिट की स्थिति में होते हैं और हम अपना लालच बढ़ाते हुए उसमें अपना टारगेट बढ़ा देते हैं और हो सकता है कि उसके बाद वह शेयर नीचे की तरफ आ जाए और हमें नुकसान कर जाए ।कई बार हम ऐसे शेयर में निवेश कर देते हैं जो दिन के दौरान अचानक किसी खबर की वजह से बहुत ऊपर चला जाता है और हमारी बाइंग कास्ट बहुत ज्यादा हो जाती है उसके बाद वह शेयर नीचे आ जाता है तो हमें काफी नुकसान उठाना पड़ सकता है इसलिए हमें उसे शेयर के बारे में जानकारी ले लेनी चाहिए अचानक लालच में आकर ऐसे शेयर में निवेश नहीं करना चाहिए

भ्रामक टिप्स से बचना

किसी भी स्टॉक में निवेश करने या नहीं करने का डिसीजन पूरी तरह से आपका अपना होना चाहिए आजकल कई तरह के टिप्स प्रोवाइडर आ गए हैं कई तरह के इंस्टाग्राम या न्यू यूट्यूब चैनल या व्हाट्सएप ग्रुप भी आपको शेयर खरीदने खरीदने की सलाह अथवा टिप्स देते हैं । आपको इनकी टिप्स लेने से के बाद खुद की रिसर्च से भी अवश्य करनी चाहिए । इसके अलावा बिज़नस न्यूज़ चैनल में भी कई विशेषज्ञ इसी तरह की राय देते हैं ऐसी स्थिति में भी आपको खुद की रिसर्च करनी है ।

उम्मीद है की इस आर्टिकल की जानकारिया आपको पसंद आयी होगी । जैसे जैसे आप इस फील्ड मैं आगे बरते हो आपको सब कुछ समझ मैं आ ही जाता है ।

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *